UPTET - उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा

UPTET - उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा

उत्तर प्रदेश देश के उन चुनिंदा राज्यों में से एक है, जहां शिक्षक पात्रता परीक्षा आयोजित की जाती है, हर साल उत्तर प्रदेश में UPTET परीक्षा आयोजित की जाती है। यह परीक्षा शिक्षकों बनने की चाह रखने वाले उम्मीदवारों के लिए एक पात्रता परीक्षा है। उत्तर प्रदेश में जो भी उम्मीदवार शिक्षक बनने की चाह रखने वाले उम्मीदवारों को इस परीक्षा से होकर गुजरना पड़ता है।

UPTET के तहत 2 पेपर आयोजित किए जाते हैं, पहला पेपर -1 जो कक्षा 1 से लेकर 5 तक के बच्चों को पढ़ाने की चाह रखने वाले उम्मीदवारों के लिए होता है, और दूसरा पेपर -2 जो कक्षा 6 से लेकर 8 तक के बच्चों को पढ़ाने के इच्छुक उम्मीदवारों के लिए आयोजित किया जाता है।

What Is UPTET – यूपीटीईटी क्या है?

UPTET उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा है, जो हर साल आयोजित की जाती है, इसका फुल फॉर्म Uttar Pradesh Teacher Eligibility Test होता है, यह प्राइमरी लेवल तथा अपर प्राइमरी लेवल 2 स्तरों में आयोजित किया जाता है। इसका आयोजन उत्तर प्रदेश बेसिक एजुकेशन बोर्ड (UPBEB) की ओर से उत्तर प्रदेश परीक्षा नियामक प्राधिकरण द्वारा किया जाता है। UPTET परीक्षा दो पेपरों – पेपर 1 और 2 के लिए दो पालियों में आयोजित की जाती है।

UPTET Levels | परीक्षा के स्तर

UPTET परीक्षा 2 स्तरों में आयोजित होती है, जिसमें पहला स्तर – UPTET प्राइमरी लेवल तथा दूसरा स्तर UPTET अपर प्राइमरी लेवल होता है। प्राइमरी लेवल तथा अपर प्राइमरी लेवल दोनों स्तरों को उत्तीर्ण करने की चाह रखने वाले उम्मीदवारों को दोनों पेपरों में सम्मिलित होना पड़ता है।

UPTET Level -1 क्या है?

राज्य के वे उम्मीदवार जो सिर्फ कक्षा 1 से लेकर 5 तक के छात्रों को पढ़ाने में रुचि रखते हैं उनके लिए UPTET लेवल -1 परीक्षा को उत्तीर्ण करना बेहद ही जरूरी है। इसे प्राइमरी लेवल भी कहा जाता है। UPTET Level -1 परीक्षा उत्तीर्ण उम्मीदवारों को राज्य सरकार द्वारा संचालित प्राथमिक विद्यालयों में कक्षा 1 से लेकर कक्षा 5 तक के विद्यार्थियों को पढ़ाने का मौका मिलता है।

इसके लिए न्यूनतम योग्यता निम्नलिखित है-

  • UPTET परीक्षा के लिए किसी भी मान्यता प्राप्त विद्यालय से अच्छे अंको के साथ उम्मीदवार को 12th परीक्षा उत्तीर्ण होनी चाहिए।
  • इसके साथ ही उम्मीदवार के पास कम से कम diploma in Elementary Education (Deled) Course करें जो 2 वर्ष का होना जरूरी है।

UPTET Level -2 क्या है?

उत्तर प्रदेश के वे उम्मीदवार जो राज्य के अपर प्राइमरी स्कूल, उच्च माध्यमिक विद्यालयों में शिक्षक बनना चाहते हैं, वे UPTET Level -2 परीक्षा में शामिल हो सकते हैं। UPTET Level -2 को अपर प्राइमरी लेवल भी कहा जाता है। UPTET Level -2 परीक्षा उत्तीर्ण उम्मीदवारों को उत्तर प्रदेश के अपर प्राइमरी विद्यालयों में कक्षा 6 से लेकर कक्षा 8 तक के विद्यार्थियों को पढ़ाने का मौका मिलता है।

इसके लिए न्यूनतम योग्यता निम्नलिखित है-

  • लेवल -2 के लिए उम्मीदवार को किसी भी मान्यता प्राप्त स्कूल से 60% अंको के साथ 12वीं परीक्षा उत्तीर्ण होनी चाहिए।
  • इसके साथ ही उसे 50% अंकों के साथ ग्रेजुएशन परीक्षा उत्तीर्ण होनी चाहिए, साथ ही उम्मीदवार के पास B.Ed (बैचलर ऑफ एजुकेशन) की डिग्री होनी चाहिए।

इसके अलावा जो उम्मीदवार कक्षा 1 से लेकर कक्षा 8 तक के स्कूलों में अध्यापक बनना चाहते हैं, उन्हें UPTET पेपर -1 और UPTET पेपर -2 दोनों परीक्षाओं में शामिल होना पड़ेगा।

आयु सीमा: UPTET परीक्षा में बैठने की चाह रखने वाले उम्मीदवारों की न्यूनतम आयु 18 वर्ष होनी चाहिए। नवीनतम UPTET पात्रता मानदंड के अनुसार, परीक्षा के लिए कोई अधिकतम आयु सीमा नहीं है।

UPTET Exam से जुड़ी जानकारी

यूपी टीईटी की परीक्षा के सभी प्रश्न वस्तुनिष्ठ (Objective) प्रकार के होंगे तथा प्रत्येक प्रश्न के लिए 1 नंबर निर्धारित होगा। इस परीक्षा में किसी भी प्रकार की नेगेटिव मार्किंग नहीं होगी। दोनों प्रश्नपत्रों की परीक्षा की अवधि 2 घण्टे 30 मिनट की होगी तथा प्रश्नो की संख्या 150 होगी।

इसके अलावा परीक्षा में निम्नलिखित विषयों से प्रश्न पूछे जाएंगे-

  • Child Development and Pedagogy (बाल विकास और शिक्षाशास्त्र)
  • Language I (भाषा -1)
  • Language II (भाषा -2)
  • Environmental Sciences (पर्यावरण विज्ञान)
  • Mathematics (गणित)
  • Science (विज्ञान)
  • Social Science (सामाजिक विज्ञान)

इस परीक्षा में उत्तीर्ण होने के लिए पात्रता निम्नलिखित है-

  • सामान्य वर्ग (General Category): सामान्य श्रेणी के उम्मीदवारों को परीक्षा उत्तीर्ण करने के लिए 150 में से 90 अंक 60% अंक।
  • ओबीसी/एससी/एसटी (OBC/SC/ST Category): उम्मीदवारों को परीक्षा उत्तीर्ण करने के लिए 150 में से 82.5 अंक 55% अंक।

UPTET Validity क्या है?

UPTET प्रमाणपत्र की वैधता को 5 वर्ष से बढ़ाकर जीवन भर कर दिया गया है। आयोग द्वारा जारी की गई नोटिस के अनुसार, यूपीबीईबी को या तो पहले के प्रमाण पत्र को फिर से सत्यापित करना होगा या उम्मीदवार को एक नया प्रमाण पत्र जारी करना होगा। UPTET प्रमाणपत्र प्राप्त करने के लिए एक व्यक्ति जितनी बार चाहे उतनी बार प्रयास कर सकता है, प्रयासों की सीमा पर भी किसी भी प्रकार का कोई प्रतिबंध नहीं है।

UPTET Preparation Tips

नीचे हमने UPTET परीक्षा की तैयारी से जुड़े कुछ टिप्स साझा किए हैं, ऐसे में अगर आप भी इस साल इस परीक्षा में सम्मिलित होना चाहते हैं, तो आपके लिए यह बेहद ही अहम है-

  • सिलेबस और पैटर्न समझें: उम्मीदवार सबसे पहले, परीक्षा के पाठ्यक्रम और परीक्षा पैटर्न डाउनलोड करें और उसी के अनुसार खुद को तैयार करें।
  • ज्यादा रुचि वाले विषय से करें शुरुआत: विषय से शुरुआत करें जिसमें आपकी रुचि अधिक हो, आप पिछले वर्ष के प्रश्नपत्रों की मदद ले सकते हैं और प्रश्नों के स्तर को जान सकते हैं।
  • सैंपल पेपर को करें हल: सैंपल पेपर को टाइमर के साथ हल करने का प्रयास करें, इससे उम्मीदवार समय के अनुसार अपने प्रदर्शन का विश्लेषण कर सकते हैं साथ ही इससे परीक्षा को तेजी से पूरा करने में मदद मिलेगी।

इसके अलावा उम्मीदवार हर विषयों के नोट्स भी तैयार करें और इसे रोजाना दोहराएं, ऐसा करने से उन्हें परीक्षा की तैयारी में और मदद मिलेगी।

UPTET FAQ – कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न

UPTET Exam क्या है?

UPTET – Uttar Pradesh Teacher Eligibility Test एक प्रकार की शिक्षक पात्रता परीक्षा है, जो उम्मीदवारों के शिक्षण की योग्यता को परखने के लिए आयोजित की जाती है।

UPTET के लिए कौन आवेदन कर सकता है?

वे उम्मीदवार जो अध्यापन के क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहते हैं, और जिनके पास इससे संबंधित सभी डिग्री है, वे इसके लिए आवेदन कर सकते हैं।

UPTET Certificate की वैधता कितनी है?

UPTET Certificate की वैधता योगी सरकार द्वारा आजीवन के लिए कर दी गई है, जो पहले मात्र 5 वर्षों तक के लिए थी।